Thursday, July 14, 2016

बाअदब - खुशबख्ती

बाअदब


खुशी में अपनी खुशबख्ती कहाँ मालूम होती है
 कफस में जा के कद्रे आशियाँ मालूम होती है
(आनन्द  नारायण मुल्ला)
Post a Comment